विश्व पर्यटन दिवस : देवभूमि उत्तराखण्ड एवं हरिद्वार अपनी अध्यात्मिक एवं धार्मिक महत्ता के कारण विश्वभर में बनाए हुए है अपनी एक अलग पहचान

 विश्व पर्यटन दिवस : देवभूमि उत्तराखण्ड एवं हरिद्वार अपनी अध्यात्मिक एवं धार्मिक महत्ता के कारण विश्वभर में बनाए हुए है अपनी एक अलग पहचान
Posted on अक्टूबर 27, 2021 5:44 pm
                                                   
हरिद्वार । विश्व पर्यटन दिवस के अवसर पर विश्व पर्यटन संगठन द्वारा निर्धारित थीम “Tourism for Inclusive Growth” पर पर्यटन विभाग हरिद्वार के तत्वावधान एवं होटल एसोसिएशन के सहयोग से एक संगोष्ठी का आयोजन किया गया। संगोष्ठी में उत्तराखंड में पर्यटन विकास की संभावनाओं पर विस्तृत चर्चा की गई। पर्यटन विभाग की ओर से विश्व पर्यटन दिवस के अवसर पर आयोजित विचार गोष्ठी का शुभारंभ योगाचार्य रजनीश आचार्य, जिला पर्यटन विकास अधिकारी सीमा नौटियाल, बजट होटल एसोसिएशन के अशोक कुमार तथा अध्यापिका स्नेलता अग्रवाल ने संयुक्त रूप से किया।

This slideshow requires JavaScript.

इस दौरान जिला पर्यटन विकास अधिकारी सीमा नौटियाल ने पर्यटन विकास में संस्कृति के महत्व की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि देवभूमि उत्तराखण्ड एवं हरिद्वार अपनी अध्यात्मिक एवं धार्मिक महत्ता के कारण विश्वभर में अपनी एक अलग पहचान बनाए हुए है। तीर्थनगरी में विभिन्न देशों और धर्मों के करोड़ों लोग आध्यात्मिक उन्नयन, गंगा स्नान हेतु वर्षपर्यन्त आते रहते हैं। इसके अलावा सामाजिक, सांस्कृतिक, राजनीतिक और आर्थिक महत्ता की दृष्टि से भी यह तीर्थ और पर्यटन स्थल देश दुनिया में शांति का संदेश प्रसारित कर रहा है। देश में बहुधर्मी लोगों के रहते हुए भी भारत एक लोकप्रिय लोकतांत्रिक राष्ट्र है, यही हमारी पहचान है। लिहाजा हमारी नैतिक जिम्मेदारी है कि हम अपनी लोक संस्कृतियों के संरक्षण, संवर्धन और विकास के लिए निरंतर प्रयासरत रहें।
उन्होंने कहा कि जब संस्कृति बचेगी तभी पर्यटन विकास होगा और हमारी सामाजिक, आर्थिक विरासत का संवर्धन संभव हो सकेगा। उन्होंने बताया कि विश्व में सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक एकता के लिए विश्व पर्यटन दिवस की शुरुआत 27 सितंबर 1980 को हुई थी। विश्व पर्यटन दिवस के अवसर पर पर्यटन विभाग द्वारा खण्ड शिक्षा अधिकारी के माध्यम से विभिन्न स्कूलों में पेंटिंग एवं निबन्धन प्रतियोगिताओं का भी आयोजन किया गया। उक्त प्रतियोगिताओं में प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय स्थान प्राप्त करने वाले छात्रों एवं छात्राओं को विश्व पर्यटन दिवस के अवसर पर पुरस्कार वितरण भी किया गया। संगोष्ठी में जाहन्वी नौटियाल एवं नन्हें बच्चों द्वारा आकर्षक सांस्कृतिक कार्यक्रम भी प्रस्तुत किये गए।
इसके अतिरिक्त विश्व पर्यटन दिवस के अवसर पर साहसिक पर्यटन गतिविधियों को बढावा देने के उद्देश्य से जनपद हरिद्वार से 15 युवाओं को 27 सितम्बर 2021 से 11 अक्टूबर 2021 तक साहसिक खेल अकादमी टिहरी में स्थित वाटर स्पोर्ट्स एण्ड एडवेंचर इंस्टीट्यूट आईटीबीपी टिहरी में 15 दिवसीय बेसिक क्याकिंग प्रशिक्षण प्रदान किये जाने हेतु हरि झण्डी दिखाकर रवाना किया गया। उक्त अवधि में इन युवाओं बेसिक क्याकिंग प्रशिक्षण प्रदान किया जायेगा, जिससे कि भविष्य में उक्त प्रषिक्षित युवा साहसिक पर्यटन में अपना स्वरोजगार प्रारंभ करते हुए यहां के पर्यटन को भी बढ़ावा देंगे। इस अवसर पर रामेश्वर प्रसाद, रजनी रावत, मुकुल राठी, मनोज कुमार, गम्भीर सिंह कोहली, तीरथ सिंह रावत, किरण भटनागर, नितिन शर्मा, ट्रेवल व्यवसायी सुमित श्रीकुंज, अखिलेश चौहान, प्रताप चौहान आदि उपस्थित रहे।

Related post