आयुष्मान भारत योजना की तीसरी वर्षगांठ : राज्य स्वास्थ्य प्राधिकरण द्वारा 23 सितंबर को आयोजित आरोग्य मंथन कार्यक्रम में मुख्य अतिथि होंगे सीएम पुष्कर सिंह धामी

 आयुष्मान भारत योजना की तीसरी वर्षगांठ : राज्य स्वास्थ्य प्राधिकरण द्वारा 23 सितंबर को आयोजित आरोग्य मंथन कार्यक्रम में मुख्य अतिथि होंगे सीएम पुष्कर सिंह धामी
Posted on अक्टूबर 21, 2021 7:30 pm
                                                   
देहरादून : आयुष्मान भारत योजना के तीन वर्ष पूरे होने पर 23 सितंबर 2021 को देश के साथ ही प्रदेश की राजधानी देहरादून में भी आरोग्य मंथन 3.0 का आयोजन किया जा रहा है। राज्य स्वास्थ्य प्राधिकरण द्वारा आयोजित आरोग्य मंथन कार्यक्रम में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी मुख्य अतिथि होंगे। चिकित्सा स्वास्थ्य एंव परिवार कल्याण मंत्री डॉ. धन सिंह रावत विशिष्ट अतिथि होंगे। इसके अलावा मंत्रीगण, राज्य स्वास्थ्य प्राधिकरण के अध्यक्ष, विधायक, मेयर व अन्य जन प्रतिनिधियों के साथ स्वास्थ्य व अन्य विभागों के उच्च अधिकारी, और योजना की सफलता में उत्कृत प्रदर्शन करने वाले चिकित्सालय व योजना के लाभार्थी भी आरोग्य मंथन कार्यक्रम में अतिथि होंगे। कार्यक्रम में राज्य स्वास्थ्य प्राधिकरण के अध्यक्ष प्राधिकरण की गतिविधियों व प्रगति के बारे में जानकारी देंगे।
होटल सैफर्ड सरोवर प्रीमियर में आयोजित होने वाले कार्यक्रम में मुख्य अतिथि द्वारा आयुष्मान योजना में उत्कृष्ट कार्य करने वाले 12 चिकित्सालयों को सम्मानित किया जायेगा। कार्यक्रम में योजना के लाभाथियों को भी आमंत्रित किया गया है। आमंत्रित लाभार्थी आयुष्मान योजना के लाभ को मंथन कार्यक्रम में साझा करेंगे। मीडियाकर्मी भी कार्यक्रम की शोभा बढ़ाएंगे। कार्यक्रम की सफलता के लिए प्राधिकरण की ओर से तैयारियों को अंतिम रूप दिया जा रहा है। सोशल मीडिया के विभिन्न माध्यमों के जरिए भी आरोग्य मंथन 3.0 कार्यक्रम का सुबह 11:00 बजे सर सीधा प्रसारण किया जाना है।
बता दें कि आयुष्मान योजना के अंतर्गत प्रदेश में 213 अस्पतालों को सूचीबद्ध किया गया है जिसमें 102 राजकीय एवं 111 निजी अस्पताल शामिल है। राष्ट्रीय पोर्टिबिलिटी के अंतर्गत संपूर्ण देश के 27000 से अधिक अस्पतालों में उपचार हेतु आयुष्मान कार्ड अनुमन्य है। योजना के अंतर्गत अब तक 3.40 लाख से अधिक बार मरीज मुफ्त में उपचार करा चुके हैं। राज्य स्वास्थ्य प्राधिकरण द्वारा अस्पतालों को उपचार के क्लेम का सीधा भुगतान किया जाता है। योजना के अंतर्गत लाभार्थियों के उपचार पर अब तक ₹ 04 अरब 61 करोड़ से अधिक का कार्मिक व्यय किया जा चुका है।
 

Related post