हरिद्वार : डीएम विनय शंकर पाण्डेय की अध्यक्षता में तहसील दिवस का किया गया आयोजन, अधिकांश शिकायतों का हुआ मौके पर ही निस्तारण

 हरिद्वार : डीएम विनय शंकर पाण्डेय की अध्यक्षता में तहसील दिवस का किया गया आयोजन, अधिकांश शिकायतों का हुआ मौके पर ही निस्तारण
Posted on नवंबर 5, 2021 4:22 pm
                                                   
हरिद्वार । जिलाधिकारी हरिद्वार विनय शंकर पाण्डेय की अध्यक्षता में तहसील हरिद्वार में तहसील दिवस का आयोजन किया गया, जिसमें आम जनता की समस्याओं एवं शिकायतों का निस्तारण किया गया। तहसील दिवस में आज कुल 29 प्रार्थना पत्र प्राप्त हुए, जिनमें से कई का मौके पर ही निस्तारण कर दिया गया तथा शेष प्रार्थना पत्रों को संबंधित विभागों/अधिकारियों को समयबद्ध-तीन दिन, एक सप्ताह, दस दिन, प्रकरण के निस्तारण में लगने वाले समय के अनुसार, निस्तारित करने के निर्देश सम्बन्धित विभागों के अधिकारियों को दिये गये।
तहसील दिवस में आज मंगलौर निवासी अब्दुल अजीम ने आवास योजना के अंतर्गत आवास दिलाये जाने के संबंध में प्रार्थना पत्र दिया। इस पर जिलाधिकारी ने अधिकारियों को पात्रता के मानक के अनुसार कार्रवाई करते हुये रिपोर्ट प्रस्तुत करने के निर्देश दिये। ग्राम रावली महदूद निवासी ध्यान सिंह ने अपनी पुत्री के जन्म प्रमाण पत्र बनाने में आ रही दिक्कत के बारे में बताया। इस पर जिलाधिकारी ने जन्म प्रमाण पत्र बनाने में जो दिक्कत आ रही है, उसे दूर करते हुये जन्म प्रमाण पत्र बनाने के निर्देश दिये। रसूलपुर मीठीबेरी निवासी गिरीराज सिंह, बिशनपुर से करमजीत सिंह एवं ज्वालापुर निवासी जगपाल ने जमीन की पैमाईश कराने के सम्बन्ध में आवेदन दिया, जिस पर जिलाधिकारी ने सम्बन्धित लेखपाल को प्रकरण में एक सप्ताह के अन्दर कार्रवाई करने के निर्देश दिये। रंभा विहार जमालपुर कलां निवासी मनोज कुमार श्रीवास्तव ने विद्युत बिल बार-बार गलत आने की शिकायत, अजीतपुर निवासी मायाराम ने विद्युत कनेक्शन दिलाने का अनुरोध किया। इस पर जिलाधिकारी ने बिजली विभाग के अधिकारियों को तीन दिन के भीतर कार्रवाई करने के निर्देश दिये।

This slideshow requires JavaScript.

माॅडर्न काॅलोनी रानीपुर हरिद्वार निवासी ममता शर्मा द्वारा मकान पर कब्जे के सम्बन्ध में शिकायत की गयी। इस पर जिलाधिकारी ने आपसी सुलह-समझौता कराने हेतु अधिकारियों को एक सप्ताह का समय दिया। लोधामण्डी ज्वालापुर निवासी शौकीन अब्बासी ने लोधामण्डी में खोखला पेड़ कटवाने, भोगपुर के ऋषिपाल ने जंगली हाथियों से फसल बचाने, मीरपुर मुवानापुर निवासी अनुज चैहान ने खेत में आये गुलदार के बच्चे को पकड़ने के सम्बन्ध में अपना अनुरोध पत्र दिया। इस पर जिलाधिकारी ने डीएफओ नीरज कुमार को मामलों का निस्तारण तीन दिन के भीतर करने के निर्देश दिये।
हजारीबाग कनखल हरिद्वार के धर्मवीर सैनी ने जमीन से अवैध कब्जा हटाने का अनुरोध किया। इस पर वस्तुस्थिति को देखते हुये कार्रवाई करने के निर्देश दिये गये। रोहलकी निवासी गजेन्द्र सिंह ने खतौनी में नाम सही कराने का अनुरोध किया। इस पर सम्बन्धित लेखपाल को जांच कर एक सप्ताह में रिपोर्ट प्रस्तुत करने के निर्देश दिये गये। धारीवाला के ऋषिपाल ने खनन से खेत को हो रहे नुकसान के सम्बन्ध में बताया। इस पर जिलाधिकारी ने खनन करने वालों पर नियमानुसार कार्रवाई करने के निर्देश दिये। 
इनके अलावा मिस्सरपुर निवासी नीरज कुमार ने पूरे तालाब के सौन्दर्यीकरण किये जाने, रामनगर ज्वालापुर निवासी अनिता शर्मा, हिमालय डिपो हरिद्वार से पुष्पा देवी ने आर्थिक सहायता उपलब्ध कराने, कटारपुर निवासी नवनीत कुमार ने किसान सम्मान निधि सही खाते में भेजने, इक्कड़ कलां निवासी जगपाल, बिजेन्द्र आदि ने वर्ग-03 की भूमि के पट्टे के विनियमितिकरण, रोहलकी से मंगल सिंह ने सिंचाई नाली व चकरोड़ सही कराये जाने के सम्बन्ध में अपनी समस्यायें व शिकायतें प्रस्तुत कीं।
इससे पूर्व तहसील परिसर पहुंचने पर जिलाधिकारी विनय शंकर पाण्डेय ने तहसील परिसर का निरीक्षण किया। उन्होंने कहा कि सदर तहसील जनपद का आईना होता है तथा सदर तहसील को अव्वल दर्जे का होना चाहिये। उन्होंने कहा कि 80 प्रतिशत छोटी-छोटी शिकायतें/समस्यायें तहसील स्तर पर ही आती हैं, जिनका निस्तारण त्वरित गति, समयबद्ध ढंग से तथा मेरिट आधार होना चाहिये। उन्होंने तहसीलदार को निर्देश दिये कि वे संग्रह अमीनों की साप्ताहिक बैठक लेना सुनिश्चित करें तथा उसकी रिपोर्ट मुझे भी प्रस्तुत करें। उन्होंने अधिकारियों को यह भी निर्देश दिये कि 15 दिन के भीतर तहसील की कार्यप्रणाली में सुधार लायें तथा सभी व्यवस्थायें चुस्त व दुरूस्त होनी चाहिये। तहसील दिवस में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डॉ. योगेन्द्र सिंह रावत अपर जिलाधिकारी प्रशासन पीएल शाह, डीएफओ नीरज कुमार, सहायक परियोजना निदेशक नलनीत घिल्डियाल, जिला विकास अधिकारी पुष्पेन्द्र सिंह चौहान, मुख्य नगर स्वास्थ्य अधिकारी हेमन्त बुदियाल, अधिशासी अभियन्ता जल संस्थान मदन सेन सहित सम्बन्धित विभागीय अधिकारीगण उपस्थित थे।

Related post