डीएम विनय शंकर पाण्डेय के पिता पूर्व न्यायधीश स्व. राम प्रकाश पाण्डेय की अस्थियों को किया गंगा में विसर्जित

 डीएम विनय शंकर पाण्डेय के पिता पूर्व न्यायधीश स्व. राम प्रकाश पाण्डेय की अस्थियों को किया गंगा में विसर्जित
Posted on दिसंबर 15, 2021 9:17 pm
                                                   
ख़बर सुनने के लिए क्लिक करे 👉
हरिद्वार । जिलाधिकारी हरिद्वार विनय शंकर पाण्डेय के पिताश्री श्री राम प्रकाश पाण्डेय, अवकाश प्राप्त न्यायाधीश, भूतपूर्व सदस्य उत्तर प्रदेश उच्चतर शिक्षा सेवा आयोग, चेयरमैन डीलर्स सलेक्शन बोर्ड(इण्डियन ऑयल), सदस्य केन्द्रीय हिन्दी समिति (प्रधानमंत्री की अध्यक्षता में) का निधन विगत 12 अक्टूबर को झांसी में हो गया था, वे 98 वर्ष के थे। आज उनकी अस्थियों को झांसी से हरिद्वार लाया गया, जहां पूरी रीति-रिवाज एवं मंत्रोच्चारण के बीच उनकी अस्थियों को रिटायर्ड पूर्व सचिव भारत सरकार विजय शंकर पाण्डेय, जिलाधिकारी विनय शंकर पाण्डेय व परिजनों ने वीआईपी घाट पर मां गंगा में विसर्जित किया। 

This slideshow requires JavaScript.

उल्लेखनीय है कि स्व. श्री राम प्रकाश पाण्डेय जी के पांच पुत्र तथा चार पुत्रियां हैं, जिनमें सबसे ज्येष्ठ सुपुत्र हरिशंकर पाण्डेय, रिटायर्ड आईएएस, विजय शंकर पाण्डेय रिटायर्ड पूर्व सचिव भारत सरकार, अजय शंकर पाण्डेय आईएएस मण्डलायुक्त झांसीं, संजय शंकर पाण्डेय, एचजेएस जिला न्यायाधीश प्रतागढ़ उत्तर प्रदेश तथा सबसे छोटे पुत्र विनय शंकर पाण्डेय आईएएस जिलाधिकारी हरिद्वार हैं। पुत्रियां ऊषा त्रिपाठी, शशि मिश्रा एचओडी डाॅ. सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय, कनक त्रिपाठी आईएएस, अन्नो मिश्रा ओएसडी हैं तथा पुत्रवधू अपर्णा पाण्डेय एचजेएस सहारनपुर हैं। 
वीआईपी घाट पर स्व. श्री राम प्रकाश पाण्डेय को मुख्य विकास अधिकारी डाॅ. सौरभ गहरवार, अपर जिलाधिकारी(वित्त एवं राजस्व) वीर सिंह बुदियाल, संयुक्त मजिस्ट्रेट अंशुल सिंह, सचिव एचआरडीए उत्तम सिंह चौहान, सिटी मजिस्ट्रेट अवधेश कुमार सिंह, एसडीएम पूरण सिंह राणा, सीओ सिटी अभय सिंह, समाजसेवियों-में बीईंग भगीरथ के शिखर पालिवाल, सिडकुल एसोशिएशन के अध्यक्ष हरेन्द्र गर्ग, मीडिया से जुड़े हुये लोगों, गंगा सभा के प्रतिनिधि आदि ने श्रद्धासुमन अर्पित किये तथा शोक संतप्त परिजनों को इस दारूण दुःख को सहन करने की शक्ति व धैर्य प्रदान करने तथा दिवंगत आत्मा की शान्ति के लिये ईश्वर से प्रार्थना की। 

Related post