डीजीपी अशोक कुमार ने कानून व्यवस्था की समीक्षा कर दिए दिशा निर्देश, सीओ को वार्निंग तो एक निरीक्षक को किया निलम्बित

 डीजीपी अशोक कुमार ने कानून व्यवस्था की समीक्षा कर दिए दिशा निर्देश, सीओ को वार्निंग तो एक निरीक्षक को किया निलम्बित
24 मार्च, 2021
                                                         

देहरादून : पुलिस महानिदेशक उत्तराखण्ड अशोक कुमार द्वारा पुलिस मुख्यालय स्थित सभागार में समस्त जनपद एवं परिक्षेत्र प्रभारियों के साथ वीडियो कान्फ्रेसिंग के माध्यम से कानून व्यवस्था की समीक्षा कर दिशा-निर्देश दिये गये। डीजीपी अशोक कुमार ने अपने सम्बोधन में कहा कि कानून व्यवस्था से सम्बन्धित वीडियो कान्फ्रेन्सिग प्रत्येक माह के द्वितीय अथवा तृतीय सप्ताह में की जाएगी। सभी पुलिस कर्मियों की जिम्मेदारियां धीरे धीरे बढाई जाएगी जिससे कानून व्यवस्था की स्थिति बनी रहे।

पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार द्वारा निर्देशित किया गया कि वर्तमान में मुख्य रूप से साईबर सम्बन्धित अपराध, महिला सम्बन्धित अपराध, यातायात से सम्बन्धित अपराध एवं ड्रग्स से अधिकांश लोग प्रभावित हैं, अतः उक्त अपराधों पर विशेष रूप से प्रभावी कार्यवाही किया जाना सुनिश्चित करें। इन अपराधों पर प्रभावी नियंत्रण लगाये जाने हेतु सम्बंधित पर जिम्मेदारी तय करते हुए कार्यवाही करना सुनिश्चित करेंगे यदि इन अपराधों के नियंत्रण में किसी प्रकार की शिथिलता प्रकाश में आती है तो जनपद प्रभारी भी जिम्मेदार होंगे |

साईबर अपराध के सम्बन्ध में निर्देशित किया गया कि साईबर अपराधों का पंजीकण एवं निस्तारण की दशा बहुत दयनीय है इस ओर ध्यान दिया जाना आवश्यक है। इस प्रकार के अपराधों के निस्तारण में लगे निरीक्षकों एवं अन्य अधिकारियों को इस ओर ध्यान देने की आवश्यकता हैए कुछ जनपदों में विशेषकर जनपद ऊधमसिंहनगर में साईबर अपराधों के निस्तारण की स्थिति निराशाजनक है। अतः जनपद ऊधमसिंहनगर के पुलिस उपाधीक्षक साईबर को वार्निग तथा वर्ष 2019 एवं 2020 में तैनात प्रभारी निरीक्षक को निलम्बित किया जाता है। वर्तमान समय में साईबर अपराध एक प्रमुख अपराधों में है जिससे काफी लोग प्रभावित हैं। अतः प्रत्येक जनपद के एसएसपी/एसपी द्वारा इसकी मोनिटरिंग व्यक्तिगत रूप से करते हुए सम्बन्धित पर जिम्मेदारी को तय करते हुए कार्यवाही की जानी आवश्यक है। साथ ही इस तरह के अपराधों के त्वरित निस्तारण हेतु सम्बन्धित को प्रशिक्षण दिये जाने की आवशयकता है। जिसके लिए एसएसपी एसटीएफ द्वारा तीन दिवस में एक प्रशिक्षण पुस्तिका बनाकर प्रत्येक जनपद को भेजी जाएगी।

प्रत्येक थाना स्तर पर महिला हेल्प डेस्क को रिसेप्शन के रूप में इस्तेमाल हेतु निर्देशित किया गया था उसका क्रियान्वयन तत्काल सुनिश्चित किया जाए, जनपदों में स्थापित ऐच्छिक ब्यूरो की क्रियाशीलता बढाई जाए तथा महिला सम्बन्धित अपराधों में उनकी भागीदारी बढाई जाए। यातायात को सुचारू रूप से चलाने एवं यातायात सम्बन्धित अपराधों पर अकुश लागाने हेतु प्रभावी कार्यवाही किया जाना आावश्यक है। विगत में विशलेषण करने पर ज्ञात हुआ कि रोड एक्सीडेन्ट में होने वाली मौतों में वृद्धि हुई है अतः ऐसे स्थानों का चिन्हीकरण आवश्यक है जहां एक्सीडेन्ट होते हैं। यह भी देखने में आया है कि जनपदों द्वारा ई-चालान की मशीनों का प्रयोग कम हो रहा है अतः उसका प्रयोग बढाना सुनिश्चित करें।

ड्रग्स की प्रवृति रोकने के लिये प्रभारी कार्यवाही आवश्यक है अतः व्यावसायिक रूप से ड्रग्स के स्मगलिंग में लिप्त व्यक्तियों पर प्रभावी कार्यवाही आवश्यक है इनपर गैग्सटर एक्ट में प्रभावी कार्यवाही करतें हुए इनके वित्तीय सहयोगियों पर भी कार्यवाही किया जाना आवश्यक है। व्यावसायिक मात्रा में ड्रग्स मिलने पर वह एस.आर. केस होगा जिसकी केस फाईल डीआईजी एसटीएफ को आएगी| गैंग्स्टर एक्ट एक प्रभावी एक्ट है जिसका प्रयोग प्रमुखता से करें तथा सम्बन्धित व्यक्ति की प्रापर्टी को भी इसमें जोडकर कार्यवाही किया जाना सुनिश्चित करें। इसी प्रकार गुण्डा एक्ट में कार्यवाही करते हुए इसका व्यापक प्रचार प्रसार करें तथा सम्बन्धित का अखबार, होर्डिंग तथा ढिंढोरा पिटवाकर गुंडा एक्ट को प्रभारी रूप से लागू करें।

इनामी उपराधियों की गिरफ्तारी सुनिश्चित की जाए यदि उनकी गिरफ्तारी नहीं हो पाती है तो उनपर इनामी राशि बढाई जाए तथा इस पर सम्बन्धित पर भी जिम्मेदारी तय की जाए। जेल से भागे अपराधियों को पकडने के लिए जेल विभाग के साथ समन्वय स्थापित करते हुए उन्हे पकडने के लिए संयुक्त अभियान चलाया जाय तथा भागे अपराधी पर तत्काल ईनाम घोषित किया जाए।

ग्राम प्रहरियों की उपयोगिता बढाने की आवश्यकता है। आगामी अति विशिष्ट महानुभावों आगमन के परिपेक्ष्य में समस्त तैयारियां समय से पूर्ण कर ली जाएं । होली त्यौहार की तैयारी से सम्बन्धित जनपदों को आवश्यक पुलिस बल उपलब्ध करा दिया गया है। अतः अपने अपने क्षेत्रों के संवेदित स्थानों में मीटिंग सुनिश्चित करते हुए जनपद प्रभारी स्वंय भी इसमें प्रतिभाग करना सुनिश्चित करेंगें। पुलिस वेलफेयर के लिए स्मार्ट बैरेक का निर्माण किया जा रहा है अतः सभी जनपद प्रभारी बैरकों में कर्मचारियों को रहने के लिए प्रोत्साहित करेंगे तथा उनके वेलफेयर का ध्यान रखेंगें । इस अवसर पर पुलिस महानिरीक्षक अपराध एवं कानून व्यवस्था वी मुरूगेशन, पुलिस महानिरीक्षक अभिसूचना ए पी अंशुमान, पुलिस महानिरीक्षक कार्मिक पुष्पक ज्योति, पुलिस उपमहानिरीक्षक अपराध एवं कानून व्यवस्था नीलेश आनन्द भरणे, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक एसटीएफ अजय सिंह, पुलिस अधीक्षक अपराध श्वेता चौबे, सहित अन्य पुलिस अधिकारी उपस्थित रहे।

Related post

%d bloggers like this: