हरिद्वार : डीएम विनय शंकर पाण्डेय की अध्यक्षता में हुई उद्योग मित्र समिति की बैठक आयोजित

 हरिद्वार : डीएम विनय शंकर पाण्डेय की अध्यक्षता में हुई उद्योग मित्र समिति की बैठक आयोजित
Posted on दिसंबर 22, 2021 7:46 pm
                                                   
ख़बर सुनने के लिए क्लिक करे 👉

हरिद्वार । जिलाधिकारी विनय शंकर पाण्डेय की अध्यक्षता में सोमवार को विकास भवन सभागार में उद्योग मित्र समिति की बैठक आयोजित हुई। बैठक में जिलाधिकारी को सर्वप्रथम महाप्रबन्धक उद्योग सुश्री पल्लवी गुप्ता ने भगवानपुर इण्डस्ट्रियल एरिया, से सम्बन्धित बिन्दु-रायपुर लकेशरी औद्योगिक क्षेत्र की पानी की निकासी के सम्बन्ध में बताया कि इस प्रकरण में अधिशासी अभियन्ता रूड़की द्वारा लकेश्वर में इण्डस्ट्रियल एसोसिएशन के साथ बैठक एवं निरीक्षण करने के पश्चात शासन को एक प्रस्ताव प्रेषित किया गया है। इस पर जिलाधिकारी ने निर्देश दिये कि मेरी तरफ से भी शासन को एक पत्र प्रेषित किया जाये। शिवगंगा औद्योगिक आस्थान लकेशरी भगवानपुर में औद्योगिक आस्थान के प्रमोटर द्वारा अवस्थापना सुविधाओं के विकास एवं रख-रखाव का कार्य पूर्ण नहीं किये जाने के सम्बन्ध में चर्चा हुई। इस पर प्रमोटर्स शिवगंगा इण्डस्ट्रियल इस्टेट भगवानपुर ने जिलाधिकारी को बताया कि भगवानपुर एसोसिएट से वार्ता करके लगभग दो माह में कार्य पूर्ण कर दिया जायेगा।

This slideshow requires JavaScript.

बैठक में जिलाधिकारी ने नेशनल हाईवे अथारिटी के अधिकारियों से ग्राम रायपुर में ग्राम चैली तक नाले के निर्माण के सम्बन्ध में जानकारी ली। इस पर जिलाधिकारी ने नेशनल हाईवे के अधिकारियों को निर्देश दिये कि आप नाला तथा सर्विस रोड बनाईये तथा एक सप्ताह में विभागीय मत उपलब्ध कराना सुनिश्चित करिये। सिकन्दर भैंसवाला में प्राकृतिक नाले पर अतिक्रमण के सम्बन्ध में जिलाधिकारी ने अधिकारियों को निर्देश दिये कि एक सप्ताह के भीतर अतिक्रमण हट जाना चाहिये। सभी औद्योगिक क्षेत्रों के लिये सी0ई0टी0पी0 स्कीम के बारे मं प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अधिकारियों ने जिलाधिकारी को बताया कि आगणन तैयार कर सिडकुल हरिद्वार को प्रेषित कर दिया गया है।

जिलाधिकारी ने अधिकारियों से औद्योगिक आस्थान रामनगर एवं सलेमपुर राजपुताना रूड़की की सड़कों आदि के सम्बन्ध में पूछा तो सिंचाई विभाग के अधिकारियों ने बताया कि सिंचाई विभाग द्वारा अध्ययन कर विभिन्न नगरों का ड्रेनेज प्लान तैयार किया जायेगा। अधिकारियों ने जिलाधिकारी को हरिद्वार औद्योगिक क्षेत्र के अन्दर के सम्पर्क मार्ग के बारे में जानकारी दी कि साई मन्दिर से पोद्दार फार्मा तक सड़क बनाने के लिये प्रस्ताव भेज दिया गया है तथा हिल बाईपास से लेकर टाटा शो रूम तक सड़क निर्माण पी0डब्ल्यूडी को करना है। इस अवसर पर सभी उद्योगों के मानचित्र स्वीकृति की अधिकारिता सीडा को दिया जाना, सिडकुल में नये उद्योगों की स्थापना हेतु नया औद्योगिक आस्थान/क्षेत्र विकसित किया जाना, हरिद्वार औद्योगिक क्षेत्र में ड्रेनेज की उचित व्यवस्था करने आदि के सम्बन्ध में विस्तृत विचार-विमर्श हुआ। 

डीएम विनय शंकर पाण्डेय ने इसके बाद बहादराबाद इण्डस्ट्रियल एरिया से सम्बन्धित बिन्दुओं पर भी चर्चा की। जिलाधिकारी ने अधिकारियों से बहादराबाद औद्योगिक क्षेत्र में फायर स्टेशन स्थापित करने के सम्बन्ध में जानकारी ली। इस पर फायर ब्रिगेड के अधिकारियों ने बताया कि इसके लिये जमीन आवंटित हो चुकी है तथा प्रस्ताव बनाकर एक सप्ताह में शासन को भेजा जायेगा। बहादराबाद औद्योगिक क्षेत्र में ओवर हैड पानी की टेंकी एवं पाइप लाइन डलवाने के सम्बन्ध में अधिकारियों ने बताया कि जल निगम तथा जल संस्थान इसकी संयुक्त डी0पी0आर0 भेंजेंगें। बैठक में इसके अतिरिक्त बहादराबाद औद्योगिक क्षेत्र स्थित सामुदायिक केन्द्र के रखरखाव आदि के सम्बन्ध में भी चर्चा हुई।

बैठक में सिडकुल से सम्बन्धित विभिन्न बिन्दुओं पर भी विचार-विमर्श हुआ। जिलाधिकारी ने सिडकुल की सड़कों की हालत के सम्बन्ध में जानकारी ली तो अधिकारियों ने बताया कि दिसम्बर में कार्य प्रारम्भ हो जायेगा। साइनेज लगाने के सम्बन्ध में जिलाधिकारी द्वारा पूछे जाने पर अधिकारियों ने बताया कि इसका प्रस्ताव भेज दिया गया है। जिलाधिकारी ने बैठक में सभी औद्योगिक क्षेत्रों में वैण्डिंग जोन विकसित करने पर भी जोर दिया। पावर रोस्टिंग ट्रिपिंग के कारण उद्योगों में उत्पादन प्रभावित होने के सम्बन्ध में जिलाधिकारी ने विद्युत विभाग के अधिकारियों को आवश्यक कदम उठाने के निर्देश दिये। इसके अलावा अन्य कई बिन्दुओं पर विस्तृत चर्चा हुई।

जिलाधिकारी ने आद्यौगिक आस्थान रूड़की के सम्बन्ध में भी विभिन्न बिन्दुओं के सम्बन्ध में जानकारी ली। उन्होंने इण्डस्ट्रियल इस्टेट रामनगर रूड़की के फायर हाईड्रेंट के सम्बन्ध में जानकारी ली, जिस पर अधिकारियों ने बताया कि यह काफी पुराना हो चुका है। इस पर जिलाधिकारी ने अधिकारियों को निर्देश दिये कि पन्द्रह दिन में निरीक्षण करके रिपोर्ट प्रस्तुत करें। इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी डाॅ. सौरभ गहरवार, सीटीओ नीतू भण्डारी, एसडीएम भगवानपुर बृजेश कुमार तिवारी, एएसडीएम विजय नाथ शुक्ल, चयेरमैन सिडकुल एसोसिएशन हरेन्द्र गर्ग, एएसओ डाॅ. अजीत सिंह, प्रोजेक्ट इंजीनियर डाॅ. मीनाक्षी  मित्तल सहित सम्बन्धित विभागों के अधिकागण एवं औद्योगिक क्षेत्र के पदाधिकारीगण उपस्थत थे।

Related post