पंजाब सहित इन तीन राज्यों में BSF भी कर सकती है गिरफ्तार, केन्द्र सरकार ने दिए यें अधिकार

 पंजाब सहित इन तीन राज्यों में BSF भी कर सकती है गिरफ्तार, केन्द्र सरकार ने दिए यें अधिकार
Posted on अक्टूबर 14, 2021 9:25 pm
                                                   

नई दिल्ली : केंद्र सरकार ने पंजाब में BSF के अधिकार का दायरा इंटरनेशनल बॉर्डर के पचास किलोमीटर अंदर तक के इलाके में कर दिया है. अब बीएसएफ के जवान बॉर्डर से पचास किलोमीटर दायरे में पूछताछ, गिरफ्तार या सामान जब्त कर सकते हैं. केंद्र सरकार ने सीमा सुरक्षा बल (BSF) के अधिकारियों को पंजाब, पश्चिम बंगाल और असम में अंतरराष्ट्रीय सीमा (भारत-पाकिस्तान और भारत-बांग्लादेश ) से 50 किलोमीटर के दायरे में तलाशी लेने, जब्ती करने और गिरफ्तार करने की शक्ति दे दी है. यानी कि अब मजिस्ट्रेट के आदेश और वॉरंट के बिना भी बीएसएफ इस अधिकार क्षेत्र के अंदर गिरफ्तारी और तलाशी अभियान जारी रख सकता है. गृह मंत्रालय का दावा है कि सीमा पार से हाल ही में ड्रोन से हथियार गिराए जाने की घटनाओं को देखते हुए बीएसएफ के अधिकार क्षेत्र में विस्तार करने का कदम उठाया गया है.

गृह मंत्रालय का दावा है कि यह फैसला 10 राज्यों और दो केंद्र शासित प्रदेशों में राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़ी अवैध गतिविधियों पर अंकुश लगाने के लिए लिया गया है, लेकिन इस फैसले के बाद प्रशासनिक और राजनीतिक मुद्दे भी उठे सकते हैं. नई अधिसूचना के अनुसार, बीएसएफ अधिकारी पश्चिम बंगाल, पंजाब और असम में गिरफ्तारी और तलाशी ले सकेंगे. बीएसएफ को दंड प्रक्रिया संहिता (सीआरपीसी), पासपोर्ट अधिनियम और पासपोर्ट (भारत में प्रवेश) अधिनियम के तहत यह कार्रवाई करने का अधिकार मिला है. असम, पश्चिम बंगाल और पंजाब में बीएसएफ को राज्य पुलिस की तरह ही तलाशी और गिरफ्तारी का अधिकार मिला है.

गृह मंत्रालय ने भारत-पाकिस्तान और भारत-बांग्लादेश के साथ लगती अंतरराष्ट्रीय सीमा से 50 किमी के क्षेत्र (भारतीय क्षेत्र के अंदर) में छापे और गिरफ्तारी की अनुमति दी है. पहले यह रेंज 15 किमी थी. इसके अलावा बीएसएफ नागालैंड, मिजोरम, त्रिपुरा, मणिपुर और लद्दाख में भी तलाशी और गिरफ्तारी कर सकेगी. वहीं, पाकिस्तान की सीमा से लगते गुजरात के क्षेत्रों में यह दायरा 80 किलोमीटर से घटाकर 50 किलोमीटर कर दिया गया है तथा राजस्थान में 50 किलोमीटर तक की क्षेत्र सीमा में कोई बदलाव नहीं किया गया है. बीएसएफ अधिनियम में नया संशोधन बल को किसी भी ऐसे व्यक्ति को पकड़ने का अधिकार प्रदान करेगा जिसने इन कानूनों के तहत अपराध किया होगा.

Related post