एम्स ऋषिकेश में राष्ट्रीय जैव चिकित्सा अनुसंधान वार्षिक प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए 15 नवंबर पंजीकरण की अंतिम तिथि

 एम्स ऋषिकेश में राष्ट्रीय जैव चिकित्सा अनुसंधान वार्षिक प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए 15 नवंबर पंजीकरण की अंतिम तिथि
Posted on नवंबर 8, 2021 8:29 pm
                                                   
ऋषिकेश : अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान, एम्स ऋषिकेश में सोसाइटी ऑफ यंग बायोमेडिकल साइंटिस्ट्स, भारत के तत्वावधान में 6 से 10 दिसंबर 2021 को आयोजित होने वाली राष्ट्रीय जैव चिकित्सा अनुसंधान वार्षिक प्रतियोगिता (NBRCOM) में पंजीकरण की अंतिम तिथि 15 नवंबर 2021 निर्धारित की गई है। इस प्रतियोगियों में प्रतिभाग करने के इच्छुक चिकित्सा विज्ञानी इस तिथि तक एसोसिएशन की वेबसाइट पर अपना पंजीयन करा सकते हैं।
संस्थान के डीन एकेडमिक प्रो. मनोज गुप्ता जी ने बताया कि इस तरह की अनुसंधान प्रतियोगिताओं से एम्स ऋषिकेश के शोध विद्यार्थियों व रेजिडेंट्स चिकित्सकों को भी अपने शोध कार्य को प्रस्तुत करने के लिए प्लेटफार्म मिलेगा, जिससे उन्हें आगे बढ़ने के अच्छे अवसर  मिल सकेंगे। इस अवसर पर उन्होंने वैज्ञानिक प्रतियोगिता के आयोजन के लिए सोसायटी के पदाधिकारियों को प्रोत्साहित भी किया।
सोसाइटी के अध्यक्ष व आयोजन सचिव रोहिताश यादव ने बताया कि एम्स, ऋषिकेश तथा पीजीआईएमईआर-चंडीगढ़ में सोसाइटी द्वारा आयोजित पहले और दूसरे राष्ट्रीय जैव चिकित्सा अनुसंधान प्रतियोगिता (NBRCOM) के सफल समापन के बाद एम्स ऋषिकेश में तीसरी वार्षिक अनुसंधान प्रतियोगिता देश के राष्ट्रीय महत्व के 7 अनुसंधान संस्थानों के साथ मिलकर आयोजित की जाएगी। इस अवसर पर आयोजन समिति के अध्यक्ष डा. बलरामजी ओमर ने बताया कि इस तरह की अनुसंधान प्रतियोगिताओं से एम्स ऋषिकेश के शोध विद्यार्थियों व रेजिडेंट्स चिकित्सकों को भी अपने शोध कार्य को प्रस्तुत करने के लिए प्लेटफार्म मिलेगा, जिससे उन्हें आगे बढ़ने के अच्छे अवसर  मिल सकेंगे।
फार्माकोलॉजी विभागाध्यक्ष एंड डीन एलाइड हैल्थ साइंस प्रो. शैलेंद्र हांडू ने बताया कि हर वर्ष चिकित्सा विज्ञान, जीवन विज्ञान, फार्मेसी, नर्सिंग, दंत चिकित्सा, बायोमेडिकल इंजीनियरिंग आदि जैव चिकित्सा विज्ञान के विभिन्न क्षेत्रों के युवा शोधकर्ता और वैज्ञानिक देशभर से एक ही मंच पर एकत्रित होकर अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन करते हैं। जिससे उन्हें जीवन में आगे बढ़ने व बेहतर कॅरियर बनाने के लिए नए अवसर प्राप्त होते हैं।
आयोजन सचिव रोहिताश यादव ने बताया कि तृतीय राष्ट्रीय जैव चिकित्सा अनुसंधान प्रतियोगिता के आयोजन में जेएनयू-दिल्ली, पीजीआईएमईआर-चंडीगढ़, एम्स-ऋषिकेश, नाइपर-मोहाली, सीडीआरआई-लखनऊ, आईआईटीआर-लखनऊ और एम्स-जोधपुर आदि राष्ट्रीय महत्व के संस्थान सहयोग कर रहे हैं।  यादव ने बताया कि यह राष्ट्रीय शोध प्रतियोगिता का आयोजन एम्स संस्थान के प्रो. बलरामजी ओमर की अध्यक्षता व फार्माकोलॉजी ​विभाग फैकल्टी डा. पुनीता धमीजा तथा नर्सिंग फैकल्टी रु​चिका रानी के संयोजकत्व में आयोजित की जाएगी। सोसायटी के अध्यक्ष ने बताया कि उक्त शोध प्रतियोगिता 6 से 10 दिसंबर-2021 तक वर्चुअल प्लेटफार्म पर (ऑनलाइन) आयोजित की जाएगी। प्रतियोगिता में प्रतिभाग करने के लिए इच्छुक आवेदकों को सोसाइटी की वेबसाइट www.sybsindia.org पर जाकर पंजीकरण करना होगा। जिसकी अंतिम तिथि 15 नवंबर 2021 निर्धारित की गई है। 
यह राष्ट्रीय शोध प्रतियोगिता मौखिक और पोस्टर प्रस्तुतियों के साथ चार श्रेणियों में आयोजित की जाएगी, जिनमें जीव विज्ञान, स्वास्थ्य विज्ञान, औषधि विज्ञान एवं  इनोवेशन, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस  तथा मेडिकल रोबोटिक आदि विषय शामिल हैं। राष्ट्रीय प्रतियोगिता में देश के शोधार्थी अपना शोध कार्य प्रस्तुत करेंगे तथा प्रख्यात बायोमेडिकल वैज्ञानिक बतौर जज हिस्सा लेंगे। विजेताओं को 5 लाख रुपए तक नकद पुरस्कारों के साथ ही यंग रिसर्चर अवार्ड से नवाजा जाएगा। उन्होंने बताया कि अनुसंधान प्रतियोगिता का उद्देश्य विभिन्न क्षेत्रों के शोधकर्ताओं के ज्ञान क्षितिज को व्यापक बनाना और उन्हें अग्रिम पंक्ति और अत्याधुनिक अनुसंधान कौशल से लैस करना है ताकि राष्ट्रीय स्तर पर जैव चिकित्सा विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में प्रतिमान बदलाव लाया जा सके।

Related post