मिशन मर्यादा को लेकर पढ़ें SDRF निरीक्षक ललिता नेगी की कविता “आये हो तुम अतिथि बनकर”

 मिशन मर्यादा को लेकर पढ़ें SDRF निरीक्षक ललिता नेगी की कविता “आये हो तुम अतिथि बनकर”
25 जुलाई, 2021
                                                         

मिशन मर्यादा

आये हो तुम अतिथि बनकर
तो मर्यादित व्यवहार करो
न नशा  न हुडदंग करो
इस देवभूमि से न तुम छल करो

यह धरती है ऋषि मुनियों की 
यहां कण कण में ईश्वर बस्ते है
इस देवभूमि का सम्मान करो
ना आकर यहां मदिरापान करो।
सीधा सरल है जीवन यहां पर
ना डी. जे.का यहां शोर करो
यहां कल कल नदियाँ बहती है
तुम इनकी मधुर झंकार सुनो
यहां अम्बर में नीले बादल है
और धरती फूलो से महकती है
न हुक्के का यहां धुआं करो
न प्रदूषित यंहा की आबोहवा करो
यहां हरिद्वार में माँ गंगा है
तो नैनीताल में माँ नैना देवी है
इनकी पवित्रता का स्मरण करो
यहां  कचरा फेंक न प्रदूषण करो
अतिथि तुम हो देव समान 
स्वागत है तुम्हारा बारंबार
बस मर्यादित हो तुम्हारा व्यवहार 
और बना रहे इस धरती का श्रृंगार
SDRF करे बस यही पुकार
SDRF करे बस यही पुकार
 
@निरीक्षक ललिता नेगी एसडीआरएफ

Leave a Reply

Related post

%d bloggers like this: