तहसीलदार ने खोह नदी में छापामार खनन के लिए बनाये गये रास्तो को किया बन्द

0

कोटद्वार । पिछले कई दिनों से नियम-कानूनों की धज्जियां उड़ाते हुए खनन माफिया खुलेआम रेत की लूट का खेल जारी है। रेत के अनियंत्रित दोहन का व्यापक दुष्प्रभाव जिले के कोटद्वार क्षेत्र के लोगों को झेलना पड़ रहा है। इस विनाशलीला की अनदेखी कर रहे प्रशासन व पुलिस की भूमिका को लेकर शहर के लोगों में तीव्र आक्रोश और असंतोष व्याप्त है। यदि प्रशासन कारवाई के लिए जाता है तो उल्टा खनन माफिया टीम पर हमला कर देते है ।

शनिवार को तहसीलदार विकास अवस्थी ने ग्रांस्टनगंज स्थित खो नदी के किनारे खननमाफियाओ के द्वारा इकट्ठा की गई मिट्टी को नष्ट किया व नदी के रास्तो में खाई खोदकर नदी में जाने के रास्ता को बन्द कर दिया । तहसीलदार के द्वारा की गई कार्यवाही से रेत के अवैध कारोबारियों में दहशत का माहौल है। अवैध भंडारण पर सख्त कार्यवाही से रेत माफियाओं में हड़कंप की स्थिति है।

तहसीलदार विकास अवस्थी ने बताया की खो नदी पर लगातार अवैध रेत उत्खनन की शिकायत मिल रही थी। शनिवार को सूचना मिलते ही राजस्व विभाग और पुलिस विभाग का अमला नदी तट पर पहुंचा तो पाया की नदी में रेत का अवैध उत्खनन कर परिवहन के लिए भंडारण किया गया हैं, जिसको नष्ट कर दिया गया है ।बाकि नदी में जाने के रास्तों में खाई खोदकर रास्ते को बंद कर दिया है ।

उल्लेखनीय हैं कि माफिया बेखौफ होकर दिन रात न केवल नदी से रेत का अवैध खनन कर रहे हैं बल्कि उसका भंडारण व परिवहन भी कर रहे हैं। लंबे समय से इस तरह की कार्यवाही की मांग क्षेत्रियवासियों के द्वारा की जा रही थी लेकिन कार्यवाही के अभाव में माफिया बेलगाम हो चुके थे। माना जा रहा हैं कि शनिवार की कार्यवाही के बाद रेत के अवैध कारोबारी दहशत में आ गए हैं। छापामार कार्यवाही से क्षेत्र में हड़कंप मच गया हैं।खो नदी के समीप के लोग इस कार्यवाही से खुश हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Solve : *
42 ⁄ 21 =