ब्रेकिंग न्यूज़ !
    *** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** सेमन्या कण्वघाटी समाचार पत्र, www.liveskgnews.com वेब न्यूज़ पोर्टल व liveskgnews मोबाइल एप्प को उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश राजस्थान, दिल्ली सहित पुरे भारत में जिला प्रतिनिधियों, ब्यूरो चीफ व विज्ञापन प्रतिनिधियों की आवश्यकता है. सम्पर्क 9410553400 *** *** सभी प्रकाशित समाचारों एवं लेखो के लिए सम्पादक की सहमती जरुरी नही है, किसी भी वाद विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र हरिद्वार न्यायालय में ही मान्य होगा . *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ के मोबाइल एप्प को डाउनलोड करने के लिए गूगल प्ले स्टोर से सर्च करे liveskgnews ***

    चमोली में छात्रों को बेहतर नागरिक बनाने व कानून की जानकारी देने के लिए पुलिस ने की गोष्ठी

    14-08-2019 21:00:19

    गोपेश्वर। गृह मंत्रालय भारत सरकार के निर्देश पर उत्तराखंड के सभी स्कूल व कॉलेजों में छात्रों एवं पुलिस के बीच समन्वय स्थापित किये जाने, छात्रों को कानून अपनाने, पालन करने, नागरिकत, राष्ट्रीयता की भावना जागृत करने एवं आंतरिक सुरक्षा की भावना पैदा करने के लिए स्टूडेंट पुलिस कैडेट योजना (एसपीसी) आरम्भ की गयी है। जिसको लेकर बुधवार को चमोली के पुलिस अधीक्षक यशवंत सिंह चौहान ने जिला मुख्यालय के शिक्षकों के साथ गोष्ठी का आयोजन किया।
    पुलिस अधीक्षक ने बताया कि इस योजना में कक्षा आठ व नौ के  छात्र-छात्राओं को  छात्र पुलिस कैडेट के रूप में चुना गया है। इस योजना में एक विद्यालय से न्यूनतम 25 छात्रों का चयन किया जाएगा। बताया गया कि जनपद स्तर पर नोडल अधिकारी के रूप में राजपत्रित अधिकारी को नियुक्त किया जाएगा। स्कूल से दो  शिक्षकों का सामुदायिक पुलिस ऑफिसर्स के रूप में चयन किया जाएगा। जो छात्रों की आंतरिक व बाह्य कक्षाएं चलाएंगे। इस अवसर पर पुलिस  उपाधीक्षक कर्णप्रयाग पुरुषोत्तम दत्त जोशी, पुलिस उपाधीक्षक चमोली आरके चमोली, विजय मठपाल व यातायात उप निरीक्षक दिगम्बर उनियाल आदि मौजूद थे।

    इस योजना का मुख्य उद्देश्य
    विद्यार्थियों में कानून का ज्ञान एवं कानून के सम्मान की भावना को जागृत करना।
    पुलिस की नेतृत्व क्षमता कार्य प्रणाली तथा संसाधनों से विद्यार्थियों का सर्वांगीण विकास।
    सामाजिक कुरीतियों के खिलाफ एक वातावरण बनाना जिससे कि सामाजिक कुरीतियों का सामना किया जा सके व उन्हें जड़ से उखाडा जा सके।
    अभिभावकों व सामाजिक कार्यकर्ताओं को जागरूक कर उनकी सहभागिता से पुलिस की सुरक्षित समाज की परिकल्पना।