ब्रेकिंग न्यूज़ !
    *** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** सेमन्या कण्वघाटी समाचार पत्र, www.liveskgnews.com वेब न्यूज़ पोर्टल व liveskgnews मोबाइल एप्प को उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश राजस्थान, दिल्ली सहित पुरे भारत में जिला प्रतिनिधियों, ब्यूरो चीफ व विज्ञापन प्रतिनिधियों की आवश्यकता है. सम्पर्क 9410553400 *** *** सभी प्रकाशित समाचारों एवं लेखो के लिए सम्पादक की सहमती जरुरी नही है, किसी भी वाद विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र हरिद्वार न्यायालय में ही मान्य होगा . *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ के मोबाइल एप्प को डाउनलोड करने के लिए गूगल प्ले स्टोर से सर्च करे liveskgnews ***

    कुंवर विक्रमादित्य सिंह द्वारा रचित नारी पर कविता "हे कुमारी आ तुझको आज मैं दुर्गा बना दूँ"

    06-08-2019 14:12:47

    हे कुमारी आ तुझको आज मैं दुर्गा बना दूँ
    ले पकड़ तीखा खडग यह तिलक माथे पर लगा दूँ
    अब जो महिषासुर तेरे दामन को यदि छुएगा भी
    नेत्र कर रक्तिम उसकी भुजा को तत्क्षण उड़ा दे
    चीख जो निकलेगी उसमें काल की मुस्कान भर दे

    कमल कोमल सी सुशीला रह चुकी तू बहुत है
    देवी मेरी कवच-कुण्डल और शस्त्रों से सजा दूँ

    हे जननी आ तुझे मैं चंडिका का रूप दे दूँ
    ले पकड़ अब चक्र और मुष्टिका मज़बूत कर दूँ
    दुराचारी अब कोई जो तेरे तन को देख लेगा
    मौत मुख पर भय में चीखे तेरे वारों को सहेगा
    खून उसका भर कटोरे स्नान करके शुद्ध कर दूँ

    अबला सी आँचल में दुबकी रह चुकी तू बहुत है
    पुण्य रूपा आ तुझे मैं युद्धविद्या भी सीखा दूँ   

    जगतजननी आ तुझे मैं जग के सिंहासन पर बिठा दूँ
    ले तू बाण , धनुष , खडग , त्रिशूल भी तुझको  धरा  दूँ
    मैं मुकुट अब इस जगत  का अपने हाथों से सजा दूँ
    अब स्वयं दुशासनों की भुजा तू उखाड़ देगी
    अब स्वयं रावणो के छाती  में त्रिशूल उतार देगी

    हे जगत की सृष्टिकर्ता चरणों में तेरे  रहूँगा
    तेरा पुत्र बनकर सदा ममता शरण में मैं बसूँगा

                       - विक्रमादित्य ( नारी को समर्पित मेरी  काव्यमय उपासना)