उत्तराखंड में बनाये जा रहे स्थायी निवास प्रमाण पत्रों की हो जांच - सुरेन्द्र भारद्वाज

Publish 17-06-2019 10:24:39


 उत्तराखंड में बनाये जा रहे स्थायी निवास प्रमाण पत्रों की हो जांच - सुरेन्द्र भारद्वाज

कोटद्वार/गढ़वाल : उत्तराखंड विकास पार्टी के प्रवक्ता सुरेंद्र भारद्वाज ने सोमवार को एक बयान जारी किया कि उत्तराखंड में फर्जी स्थाई निवास बनाए जा रहे हैं। इस वजह से उत्तराखंड विकास पार्टी ने पहले भी उत्तराखण्ड में बनाए जा रहे हैं स्थाई निवास की प्रमाण पत्रों की  जांच की मांग की थी।
उविपा प्रवक्ता सुरेन्द्र भारद्वाज ने कहा कि कोटद्वार में सेना भर्ती के दौरान कई नवयुवकों के स्थाई निवास फर्जी पाए गए जिस बात ने उत्तराखंड विकास पार्टी की इस बात की पुष्टि की कि,  उत्तराखंड में बड़े पैमाने पर फर्जी स्थाई निवास बन रहे हैं । अगर यह सेना का मामला नहीं होता तो हो सकता था कि यह फर्जी मुन्ना भाई उत्तराखंड राज्य के किसी सरकारी भर्ती में चयनित कर लिये जाते । उत्तराखंड विकास पार्टी प्रदेश हित में उन्हें मांग करती है कि उत्तराखंड में बनने वाले समस्त स्थाई निवास  प्रमाणपत्रों की पुनः जांच की जाए और दोषी अधिकारियों को तुरंत बर्खास्त किया जाए।
साथ ही उविपा प्रवक्ता सुरेन्द्र भारद्वाज ने कहा कि  स्थायी निवास प्रमाण पत्र की पात्रता की कट ऑफ डेट 1985 करने की मांग भी की। उन्होंने कहा कि जो लोग 1985 में यहाँ आये वे किसी लालच में यहाँ नहीं आये थे। आज लोग फर्जी तरीके से स्थायी निवास बना यहाँ के युवाओं की नौकरियों और शिक्षा पर डाका डाल रहे हैं जिससे यहाँ के मूल निवासियों और बाहरी लोगों के बीच तनाव बढ़ रहा है। और इसका एकमात्र कारण भाजपा का यहाँ के मूल निवासियों के हितों की अनदेखी करना है। यह बात बर्दाश्त से बाहर है।

To Top