*** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400, ऑफिस 01332224100 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** सेमन्या कण्वघाटी समाचार पत्र, www.liveskgnews.com वेब न्यूज़ पोर्टल व liveskgnews मोबाइल एप्प को उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश राजस्थान, दिल्ली सहित पुरे भारत में जिला प्रतिनिधियों, ब्यूरो चीफ व विज्ञापन प्रतिनिधियों की आवश्यकता है. सम्पर्क 9410553400 *** *** सभी प्रकाशित समाचारों एवं लेखो के लिए सम्पादक की सहमती जरुरी नही है, किसी भी वाद विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र हरिद्वार न्यायालय में ही मान्य होगा . *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ के मोबाइल एप्प को डाउनलोड करने के लिए गूगल प्ले स्टोर से सर्च करे liveskgnews ***

आइबिस परिंदों की किलकारियों से गूंज रहा कालागढ़

13-05-2019 16:14:34

कालागढ़ (कुमार):  कालागढ़ का वातावरण अब इंसानों के साथ साथ वन्यजीवों को अब और भी ज्यादा रास आने लगा है । विदेशों से जहाँ परिंदे प्रवास को कालागढ़ का रुख करते है तो वही प्रकृति के सफाईकर्मी गिद्ध ने भी कॉर्बेट पार्क के साथ साथ कालागढ़ में भी वापसी की । अब इसी क्रम में एक शर्मीला खूबसूरत व प्रवासी आइबिश पक्षी का झुंड कालागढ़ में डेरा जमाये हुए है । रेड नेपड आइबिस पक्षियों का झुंड सुबह इंटर कॉलेज के समीप शीशम के जंगल मे बैठा रहता है शाम होते होते शहर के ऊपर से किलकारियां करता हुआ रामगंगा नदी किनारे पहुंच जाता है । जहाँ इन्हें देखने के लिए पहले से ही भीड़ एकत्रित रहती है । क्योंकि यह परिंदे दलदली क्षेत्र काफी पसंद करते है इसलिए यह रामगंगा किनारे पेड़ो पर बैठे रहते है ।
रेड नेपड आइबिश प्रवासी पक्षी होते है जो काफी खूबसूरत होते है । रेड नेपड आइबिश आगे से घूमावदार होती है जो शिकार करने में काफी कारगर है इनकी औसतन लंबाई 60 से 68 सेमी तक होती है । पक्षी जानकार भवानी दत्त सती ने बताया कि आज से 10 वर्ष पूर्व आइबिश पक्षी रामनगर की कोसी नदी पर प्रवास के लिए आते थे परन्तु इन पक्षियों को कॉर्बेट की सरजमीं इतनी रास आयी कि इन्होंने यहाँ अपना डेरा जमा लिया है जिसका नतीजा है कि कालागढ़ की तरफ भी इन पक्षियों ने प्रवास शुरू कर दिया है । उप प्रभागीय वनाधिकारी आर के तिवारी ने बताया कि कालागढ़ में जैव विविधता लगातार बढ़ती जा रही है रामगंगा नदी के के किनारे पर इन पक्षियों को शाम के समय देखा जा सकता है । इनके संरक्षण के लिए भी हम पूरी तरह समर्पित है ।