*** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400, ऑफिस 01332224100 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** सेमन्या कण्वघाटी समाचार पत्र, www.liveskgnews.com वेब न्यूज़ पोर्टल व liveskgnews मोबाइल एप्प को उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश राजस्थान, दिल्ली सहित पुरे भारत में जिला प्रतिनिधियों, ब्यूरो चीफ व विज्ञापन प्रतिनिधियों की आवश्यकता है. सम्पर्क 9410553400 *** *** सभी प्रकाशित समाचारों एवं लेखो के लिए सम्पादक की सहमती जरुरी नही है, किसी भी वाद विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र हरिद्वार न्यायालय में ही मान्य होगा . *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ के मोबाइल एप्प को डाउनलोड करने के लिए गूगल प्ले स्टोर से सर्च करे liveskgnews ***

चमोली के जंगलों में लगी आग हुई बेकाबू, सांस लेने में हो रही परेशानी

29-05-2019 18:16:48

गोपेश्वर/ चमोली (जगदीश पोखरियाल)। चमोली जिले के जंगलों में लगी आग बेकाबू होती जा रही है। मंगलवार की सुबह से लेकर बुधवार तक आग पर काबू नहीं पाया जा सका था। जिससे चारों ओर धूंआ ही धूंआ नजर आ रहा है। लोगों को सांस लेने में भी दिक्कत होने लगी है। जंगलों में भड़की आग से लाखों रुपये की वन संपदा नष्ट होने के साथ ही पशु पक्षियों का जीवन पर भी खतरा मंडरा रहा है। हालांकि वन महकमा कई स्थानों पर आग पर काबू पाने की बात कर रहा है लेकिन चट्टानी भाग पर लगी आग को काबू पाने में वन विभाग को भी काफी पसीना बहाना पड़ रहा है। वहीं वातावरण में काफी उमस पैदा हो गई है। मंगलवार सुबह से ही चमोली के रौली-ग्वाड, क्षेत्रपाल, भीमतला, घुड़साल, चमोली कस्बे के उपरी इलाके सहित अनेक स्थानों पर आग लगी हुई है। जो अभी भी जारी है। जिससे चारों ओर धूंऐ का गुब्बार बना हुआ है। आमने-सामने की पहाडियां भी इस धूंए के कारण नजर नहीं आ रही है। ऐसे में हेलीकाप्टर के माध्यम से चारधाम यात्रा पर आने वाले यात्रियों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। मंगलवार को एक हेलीकाप्टर को गोपेश्वर में इमेंरजेंसी लैडिंग करनी पड़ी थी। यात्रा माग के चट्टानी भाग मंे लगी आग के कारण पहाड़ी से पत्थरों के गिरने का भी भय बना हुआ है। वन विभाग के अधिकारियों का कहना है कि 15 से अधिक स्थानों पर आग लगी हुई है। जिससे 17 से अधिक हेक्टेअर वन संपदा नष्ट होने की आशंका है। हालांकि वन विभाग आग पर काबू पा लेने की बात कर रहा है लेकिन चट्टानी भाग में लगी आग पर काबू पाने में वन विभाग के भी पसीने छूट रहे है।
क्या कहते है अधिकारी
धूंऐ के गुब्बार के कारण स्वांस के मरीजों को काफी दिक्कते आती है वहीं आंखों की बीमारी भी इस धूंऐ के कारण होने लगती है। इससे बचाव के  लिए आंखों पर चस्मा लगाये रखने की आवश्यकता है।
डाॅ. हिमांशु मिश्रा चिकित्सक जिला चिकित्सालय गोपेश्वर
क्या कहते है वन विभाग के अधिकारी
चमोली जिले में अभी तक 15 स्थानों पर आग की घटनाऐं प्रकाश में आयी है। जिसमें से अधिकांश स्थानों की आग को बूझा लिया गया है। आग से 17 हेक्टेअर वन भूमि नष्ट हो गई है। वहीं घुडसाल के चट्टानी भाग में लगी आग अभी काबू में नहीं आयी है लेकिन आग आगे न बढ़े इसलिए फायर लाइन काट दी गई है।
आरती मैठाणी, वनक्षेत्राधिकारी, केदारनाथ वन्य जीव प्रभाग, चमोली।