*** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400, ऑफिस 01332224100 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** सेमन्या कण्वघाटी समाचार पत्र, www.liveskgnews.com वेब न्यूज़ पोर्टल व liveskgnews मोबाइल एप्प को उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश राजस्थान, दिल्ली सहित पुरे भारत में जिला प्रतिनिधियों, ब्यूरो चीफ व विज्ञापन प्रतिनिधियों की आवश्यकता है. सम्पर्क 9410553400 *** *** सभी प्रकाशित समाचारों एवं लेखो के लिए सम्पादक की सहमती जरुरी नही है, किसी भी वाद विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र हरिद्वार न्यायालय में ही मान्य होगा . *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ के मोबाइल एप्प को डाउनलोड करने के लिए गूगल प्ले स्टोर से सर्च करे liveskgnews ***

बेमौसमी बारिश से काश्तकारों में छायी मायूसी

20-04-2019 20:41:00

गोपेश्वर(जगदीश पोखरियाल)।  चमोली जिले में बेमौसमी बारिश से जिले के काश्तकारों में खासी मायूसी है। यहां बार-बार हो रही बारिश आडू, सेब, पोलम और खुमानी की फसलों को खासा नुकसान पहुंचा रही है। वहीं बार-बार हो रही बारिश से खेतों में पककर तैयार हो चुकी गेंहू की फसल के साथ ही सब्जियों पर बीमारी लगाने का भय बना हुआ है।
चमोली जिले के सुनील, परसारी, देवग्राम, बडागावं, ऊर्गम, भेंटा, भर्की सहित दर्जनों गांवों में सेब, आडू, खुबानी और पोलम की काश्तकारी की जाती है। जिससे काश्तकार बेहतर आय प्राप्त करते हैं, लेकिन इस वर्ष मौसम में आये बदलाव के कारण इन दिनों हो रही बेमौसमी बारिश से पेडों पर लगे फूल झडने लगे हैं। जिससे फसल खराब हो रही है। स्थानीय काश्तकार नितिन सेमवाल, ताजबर सिंह और मोहन सिंह का कहना है कि बेमौसमी बारिश जहां फलों के पेडों पर लगे फूल झड रहे हैं। वहीं पेडों की कोमल शाखाएं भी खराब हो रही हैं। जिससे इस वर्ष फसल व फलो का उत्पादन खराब हो गया है। ऐसे में अब फसल के उत्पादन के लिये खर्च की गई लागत को वसूल करना भी कठिन हो रहा है।
क्या कहते है अधिकारी
चमोली जिले में इन दिनों हो रही बारिश फलों के उत्पादन पर बुरा प्रभाव डालेगी। साथ अधिक बारिश होने की स्थिति में सब्जियों में भी बीमारी के संक्रमण होने का खतरा बना हुआ है। किसानों को सब्जियों की सुरक्षा के लिये आवश्यक दवाओं का छिडकाव करना चाहिए।
नरेंद्र यादव, जिला उद्यान अधिकारी, चमोली।