*** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400, ऑफिस 01332224100 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** सेमन्या कण्वघाटी समाचार पत्र, www.liveskgnews.com वेब न्यूज़ पोर्टल व liveskgnews मोबाइल एप्प को उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश राजस्थान, दिल्ली सहित पुरे भारत में जिला प्रतिनिधियों, ब्यूरो चीफ व विज्ञापन प्रतिनिधियों की आवश्यकता है. सम्पर्क 9410553400 *** *** सभी प्रकाशित समाचारों एवं लेखो के लिए सम्पादक की सहमती जरुरी नही है, किसी भी वाद विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र हरिद्वार न्यायालय में ही मान्य होगा . *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ के मोबाइल एप्प को डाउनलोड करने के लिए गूगल प्ले स्टोर से सर्च करे liveskgnews ***

यात्रा बढ़ने के साथ की बदरीनाथ धाम में परेशानी भी कम नहीं

04-06-2019 19:39:50

गोपेश्वर (जगदीश पोखरियाल)।  बदरीनाथ यात्रा के बढने के साथ ही यात्रियों की परेशानियां भी बढ़ने लगी है।  धाम में जहां तीर्थयात्रियों की संख्या बढ़ने से यात्रियों को वाहनों की कमी से जूझना पड रहा है। वहीं धाम में अधिक संख्या में तीर्थयात्रियों के पहुंचने से यहां आवास को लेकर भी समस्याएं पैदा होने लगी हैं। हालांकि प्रशासन की ओर से समस्या के निदान के लिये निचले पडावों पर तीर्थयात्रियों को रोकने की बात कही जा रही है।
मैदानी क्षेत्रों में पड रही तेज गर्मी और विद्यालयों में हुए अवकाश के बाद बदरीनाथ की तीर्थयात्रा अपने चरम पर है। यहां तीन सप्ताह में तीन लाख से अधिक तीर्थयात्री भगवान बदरी विशाल के दर्शनों को बदरीनाथ धाम पहुंच चुके हैं। ऐसे में धाम में क्षमता से अधिक तीर्थयात्रियों के पहुचने से तीर्थयात्रियों को यहां अव्यवस्थाओं से दो-चार होना पड रहा है। दिल्ली से आये तीर्थयात्री मनीश शर्मा, राजू कुमार और अशोक पांडे का कहना है कि सोमवार को वे देर शाम बदरीनाथ धाम पहुंचे लेकिन अधिक संख्या में तीर्थयात्रियों के धाम पहुंचने उन्हें धाम आवास की व्यवस्था के लिये घंटों दर-दर भटकना पडा। वहीं धाम में वाहनों की कमी आवाजाही करने वाले लोगों के लिये दिक्कत का कारण बन रहा है।

बदरीनाथ धाम में 15 हजार तीर्थयात्रियों के आवास की समुचित व्यवस्था है। यदि यहां अधिक संख्या में तीर्थयात्री पहुंच रहे हैं, तो इसे दिखवाया जाएगा और तीर्थयात्रियों की संख्या अधिक होने पर तीर्थयात्रियों को मार्ग के निचले पडावों पर रोका जाएगा। जिससे तीर्थयात्रियों को दिक्कतों का सामना न करना पडे।
वैभव गुप्ता, उपजिलाधिकारी, जोशीमठ।