ब्रेकिंग न्यूज़ !
    *** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400, ऑफिस 01332224100 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** सेमन्या कण्वघाटी समाचार पत्र, www.liveskgnews.com वेब न्यूज़ पोर्टल व liveskgnews मोबाइल एप्प को उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश राजस्थान, दिल्ली सहित पुरे भारत में जिला प्रतिनिधियों, ब्यूरो चीफ व विज्ञापन प्रतिनिधियों की आवश्यकता है. सम्पर्क 9410553400 *** *** सभी प्रकाशित समाचारों एवं लेखो के लिए सम्पादक की सहमती जरुरी नही है, किसी भी वाद विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र हरिद्वार न्यायालय में ही मान्य होगा . *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ के मोबाइल एप्प को डाउनलोड करने के लिए गूगल प्ले स्टोर से सर्च करे liveskgnews ***

    बाबा के अनुयायियों द्वारा दिव्यांग महिला व उसकी बच्ची को दी जा रही जान से मारने की धमकी।

    24-11-2019 16:06:56 By: एडमिन

    कोटद्वार। पौड़ी जिले की लैंसडौन तहसील के मंजकोट गांव में एक बाबा द्वारा बनाये गये आश्रम में रह रहे चेलों द्वारा गांव वालों के साथ गुण्डागर्दी व मारपीट की जा रही है। साथ ही एक दिव्यांग महिला को बाबा के चेलों व कुछ असामाजिक तत्वों द्वारा डराया धमकाया जा रहा है और जान से मारने की धमकी भी दे रहे है। महिला द्वारा कई बार स्थानीय प्रशासन से शिकायत भी की गई लेकिन अभी तक कोई सुनवाई नही हो पाई है।  इससे परेशान होकर पीड़ित महिला अपनी चार वर्ष की बेटी और भाई के साथ न्याय की मांग को लेकर कोटद्वार से मुख्यमंत्री आवास देहरादून तक पैदलमार्च के लिए निकली थी तभी रास्ते मे ही कोटद्वार पुलिस व स्थानीय प्रशासन ने उन्हें रोक लिया और तहसील परिसर में उपजिलाधिकारी के कार्यालय में ले आये। जहाँ पर उपजिलाधिकारी द्वारा समझा बुझाकर व न्याय का भरोसा देकर उनको राजस्व की ही गाड़ी में बैठा कर गांव भेज दिया गया।



    वही दिव्यांग महिला राजमती ने बताया कि एक बाबा द्वारा बनाये गये आश्रम में रह रहे कुछ बाहरी लोगों के द्वारा उन्हें डराया व धमकाया जा रहा हैं। जब हमने इसका विरोध किया तो मेरी चार वर्षीय बेटी और मुझे जान से मारने की धमकी भी दी गई। वहीं पीड़ित महिला के भाई अनुज ने बताया कि बाबा के अनुयाई हमें डराते धमकाते रहते हैं और जो भी इनके विरोध में बोलता है उन लोगों पर यह लोग झूठे मुकदमे लगवा देते हैं। उन्होने बताया कि हमारी मांग है कि इन जैसे लोगों को गांव से बाहर निकाला जाए और इन सब की जांच हो और जो भी दोषी पाया जाए उन पर उचित कार्यवाही की जाये। इसलिए रविवार से हमने न्याय के लिए मुख्यमंत्री आवास तक पैदल मार्च करने का निर्णय लिया और वहां जाकर मुख्यमंत्री को ज्ञापन देना था। अगर वह हमारी बात नहीं सुनते तो हम लोग वहां पर भूख हड़ताल पर बैठ जाते ।


    क्या कहते है अधिकारी

    उपजिलाधिकारी योगेश सिंह मेहरा ने बताया कि कुछ असामाजिक तत्वों द्वारा गांव की दिव्यांग महिला को डराया धमकाया जा रहा है। इनकी इस समस्या का जल्द ही निराकरण किया जाएगा।